डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम (Disc Operating System)

डॉस एक पाठ आधारित एकल विंडोज़ ऑपरेटिंग सिस्टम है। इसे स्टार्ट करने के लिए स्टाट मेन्यू के रन कमांड पर क्लिक करें।  एक संवाद बॉक्स के रूप में दिखाई देगा।  प्रोग्राम का नाम लिखने के लिए टेक्स्ट बॉक्स में एक विंडो खुलेगा जो एक प्रकार का कमांड लाइन है उस cmd लिखे और फिर “ओके” बटन पर क्लिक करें।  डॉस प्रॉम्प्ट तब c:\> के रूप में दिखाई देगा जो स्क्रीन के ऊपरी बाएँ कोने में दिखाया गया है जिसे डॉस प्रॉम्प्ट के रूप में जाना जाता है।

पथ की अवधारणा

c: ड्राइव की मूल निर्देशिका को c: \ के रूप में संदर्भित किया जाता है।  हर निर्देशिका रूट निर्देशिका की एक उप-निर्देशिका है।  मान लीजिए कि रूट डायरेक्टरी में कंपाइलर नाम की एक उप-निर्देशिका है, इसे निम्नानुसार संदर्भित किया जाएगा।
C:\compiler
अगर उसका कोई अलग सब डायरेक्टरी है जैसे kunal नाम से है तो उसे इस तरह से दर्शाया जा सकता है।
C:\compiler\kunal

c directory

प्रॉम्प्ट c: \> जैसा कि स्क्रीन के शीर्ष पर FIGURE में दिखाया गया है, यह दर्शाता है कि कार्यशील डिस्क c: है और यह रूट डायरेक्टरी में है।  परीक्षण करने के लिए, dir टाइप करें और एंटर दबाएं;  यह रूट डायरेक्टरी में उपलब्ध फाइलों की सूची दिखाएगा।  अब मान लें कि एक उपयोगकर्ता प्रकार cd user \ user \ user2 .J DOS संकेत बदल जाएगा और जैसा कि FIGURE में दिखाया गया है। अब डिफ़ॉल्ट निर्देशिका c: \ user \ user2 में बदल गई है।  यदि कोई उपयोगकर्ता dir J टाइप करता है (dir टाइप करें और एंटर करें) तो किसी को डायरेक्टरी c: \ user \ user2 में संग्रहित फाइलों की सूची मिल जाएगी।

कार्यकारी निर्देशिका(working directory)

प्रॉम्प्ट c: \> जैसा कि स्क्रीन के शीर्ष पर FIGURE  में दिखाया गया है, यह दर्शाता है कि कार्यशील डिस्क c: है और यह रूट डायरेक्टरी में है।  परीक्षण करने के लिए, dir टाइप करें और एंटर दबाएं;  यह रूट डायरेक्टरी में उपलब्ध फाइलों की सूची दिखाएगा।  अब मान लें कि एक उपयोगकर्ता प्रकार cd user \ user \ user2 .J DOS संकेत बदल जाएगा और जैसा कि FIGURE में दिखाया गया है। अब डिफ़ॉल्ट निर्देशिका c: \ user \ user2 में बदल गई है।  यदि कोई उपयोगकर्ता dir J टाइप करता है (dir टाइप करें और एंटर करें) तो किसी को डायरेक्टरी c: \ user \ user2 में संग्रहित फाइलों की सूची मिल जाएगी।

starting dos path

डाॅस का कमांड

डाॅस के कमांड लाइन को दो भागो मे बांटा गया है
इनटरनल कमांड और एक्सटरनल कमांड
इनटरनल कमांडः कुछ इनटरनल कमांड इस प्रकार है जैसे: md, cd, cls, dir, del, ren, rd, copy, path, आदि

Md(make directory) 

इस कमांड से डायरेक्टरी या फोलडर बनाया जाता है।
उदाहरणः c:\> md dir_name

Cd(change directory) 

इस कमांड से वर्तमान मे काम करने वाली डायरेकटरी को बदला जाता है।
उदाहरणः c:\> cd dir_name

Cd..

इस कमांड का प्रयोग किसी डायरेकटरी से बहार जाने के लिए प्रयोग करते है

Cls

dir command

कमांड का प्रयोग काम किए गए टास्क को साफ करने के लिए प्रयोग मे लाते है जिसे क्लियर स्क्रिन भी कहा जाता है।

Dir

कमांड का प्रयोग वर्तमान मे जो फोलडर या डायरेकटरी होता है उसके अंदर जो भी फोलडर या फाइल होता है उसे चेक करने के लिए प्रयोग मे लाते हैं।

Ren(rename)

कमांड का प्रयोग किसी डायरेकटरी के नाम को बदलने के लिए प्रयोग किया जाता था।
  उदाहरणः ren    old_name new_name
 

Rd(remove directory)

इस कमांड का प्रयोग किसी भी डायरेकटरी को हटने के लिए प्रयोग मे लाते है।
उदाहरणः rd directory_name

Copy

कमांड का प्रयोग  किसी फाइल को copy करने के लिए प्रयोग मे लाते है।
उसी तरह date और time कमांड का भी प्रयोग किया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *